तीन महिनों से फंसे हुए है 100 बंदर, रेस्क्यू के लिए बनाया गया तीन सौ मीटर लंबा पुल

छत्तीसगढ़ में पिछले तीन महीनें से बंदर फंसे हुए हैं। दरअसल, यहां के कांकेर जिला स्थित दुधावा बांध के बीच बने टापू में बीते तीन महीने से सौ से अधिक बंदर फंसे हुए हैं। टापू के चारों तरफ पानी भरा हुआ है जिस वजह से बंदर वहां से निकल नहीं पा रहे थे। जैसे ही वनकर्मियों की नजर इन सभी पर पड़ी तब जाकर मामला प्रकाश में आया और इसके बाद बंदरों को बचाने का काम शुरू किया गया। इस टापू से बंदरों को निकालने के लिए करीब सवा तीन सौ मीटर लंबा बांस का पुल तैयार किया गया। बंदरों को यहां से निकालने के लिए पुल पर केले टांगे गए हैं। वहीं, इन्हें देखकर बंदर धीरे-धीरे टापू पर आने लगे हैं। कैसे टापू पर फंसे बंदर बारिश के शुरुआती दिनों में दुधावा बांध का जल स्तर कम था, उस दौरान बंदरों का झुंड टापू पर पहुंचा। लेकिन, फिर से बारिश होने के बाद दुधावा बांध का जल स्तर बढ़ गया। बंदरों का झुंड टापू पर ही फंसा रह गया। टापू पर ये बंदर पेड़-पौधों की पत्तियां खाकर ही खुद को जिंदा रखे हुए थे। मछुआरों के एक दल ने टापू पर बंदरों को देखा, जिसके बाद उन्होंने धमतरी के जल संसाधन विभाग को सूचना दी थी।